A Mysterious Story

Murder Mystery Of Lovers( Revenge Of Ego) | A Mysterious Story Part-4

Murder Mystery Of Lovers( Revenge Of Ego) | A Mysterious Story Part-4

शालीनी रोते-रोते छोडो मुझे छोड़ो! मुझे क्यों मार रहे हो! क्यों अरेस्ट कर रहे हो मुझे? इंस्पेक्टर कोई जवाब नहीं देता और शालिनी को लेकर चला जाता है।

Advertisement

सीन17 पुलिस स्टेशन

महिला इंस्पेक्टर शालीनी को मार मार कर सच बोलने के लिए बोलती है पर शालिनी नहीं मानती।
तभी इंस्पेक्टर आता है , शालिनी के सामने आकर बोलता है की शालिनी जी मान जाइए नहीं तो हमे मनाना आता है।

शालिनी इिंस्पेक्टर को धमकी देती है मुझे छोड दो नहीं तो तुम्हारी वर्दी उतरवा दूंगी।
इंस्पेक्टर हसने लगता है।और उसे घसीट कर ले जाता है और एक वीडियो दिखाता है ।वीडियो देखकर शालिनी चौक जाती है।
इिंस्पेक्टर : क्यों शॉक लगा? चलो एक और शॉक देता हूं।
बांके लेकर आओ उसे।

बांके एक लंबे चौड़े लड़के को पकड़ कर लाता है।
विक्रम को देखकर शालिनी के पैरों से जामीन खिसक जाती है।
क्यों शालिनी मैडम लगा ना डबल शॉक?
शालीनी विक्रम से हकलाते हुए वि वि वि विक्रम तुम?

तुमने तो कहा था की सब सबूत मिटा दिए हैं तो फिर यह सब कैसे हुआ?

बांके: मैं बताता हूं एक रात साहब ने हम सबको जंगल में उसी जगह बुलाया जहां तुमने निशा की हत्या करवाई थी।

तब साहेब ने निशा और रवि का कैंप देखा तो साहब को कुछ शक हुआ। क्योंकी रिसोर्ट में कोई अपना कैंप का सामान क्यों लेकर जाएगा?

फिर से सीन 14

इंस्पेक्टर: बांके अगर मुझे किसी को मारना होगा तो  मैं दोनों को मारूंगा एक को मारकर एक को जिंदा छोड़ देना बात कुछ हजम नहीं होती।
बांके: हा साहब।
इस्पेक्टर: उनके दोस्तों का क्या नाम था?

शालिनी और राघव बोल रहे थे, रिजॉर्ट में पाटी है अगर ये दोनों रिजॉर्ट जा रहे थे तो कैंप का सारा सामान ले जाने की क्या जरूरत पड़ गई?
बांके समझे कुछ?
बाके: नहीं साहब मैं इतना समझता तो आप की जगह नहीं होता?

इंस्पेक्टर:  हां यह भी सही बात है ।

बांके मतलब यह हुआ  कि वे दोनों रास्ता भूले नहीं थे। वह दोनों सही जगह आए थे ।

बांके हां साहब यह बात तो मेरे दिमाग में आई ही नहीं।

इंस्पेक्टर: रात बहुत हो गई है बाकी कल काम करेंगे आप सब लोग जा सकते हैं।

सारी टीम वापस चली जाती है । इंस्पेक्टर भी जाने लगता है तभी उसकी नजर आसपास के निशानों पर पड़ती है।

ड्राइवर गाड़ी रोको जल्दी इंस्पेक्टर बोलता है।

बांके: क्या हुआ साहब गाड़ी क्यों रुकवाई?

नीचे उतर आओ फिर बताता हूं। इंस्पेक्टर जवाब देता है और फिर दोनों नीचे उतर जाते हैं।

बांके यह देखो गाड़ी के निशान और जूतों के निशान।

(Murder Mystery Of Lovers( Revenge Of Ego) | A Mysterious Story Part-4)

बांके सिर पर हाथ रखकर हां साहब यह तो गाड़ी और जूतों का निशान है पर इसका क्या करेंगे साहब?

इंस्पेक्टर  बांके को ऑर्डर देता है कि वह फॉरेंसिक टीम को तुरंत बुलाए और  बाके हामीे भर कर फॉरेंसिक टीम को बुला लेता है।

थोड़ी देर में फोरेंसिक टीम आती है और सैंपल कलेक्ट कर के ले जाती है।

अगले दिन इंस्पेक्टर का केबिन।

इंस्पेक्टर बांके से पूछते हुए रिपोर्ट आई ?

हां साहब बांके ने जवाब दिया।

साहब यह जिस गाड़ी के पहिए का निशान है वह गाड़ी शहर में सिर्फ 4 लोगों के पास ही है जिसमें 2 लोग बुज़ुर्ग हैं और उनके बच्चे भी विदेश में रहते हैं बचे दो लोग आप कहो साहब तो गर्दन पकड़ कर जेल में डाल दूं उन दोनों को।

इंस्पेक्टर: नहीं बांके तुम्हें जूते का निशान याद है?

हां साहब मुझे याद है 11 नंबर का जूता था। बांके जवाब देता है।

इंस्पेक्टर यह वही क्लु है जो हमें खूनी तक पहुंचाएगा।

बांके पूछता है कैसे साहब क्या हम सब जूतों के निशान लेने जाएंगे या जूते नापने जाएंगे?

इंस्पेक्टर नहीं।तुम और मिस रोजी सेल्समैन बंन कर जाओगे इन दोनों के घर में और जूते बेचोगे, देखो 11 नंबर का जूता बहुत बड़ा होता है कॉमन नंबर 10 या 9 ही होते हैं।

जूते दिखा कर तुम उनके पैरों को जूते में नापना पहले छोटा साइज दिखाओगे अगर खूनी होगा तो उसे साइज छोटा आएगा और वह अपना साइज बता देगा।

मैं पूरी टीम के साथ तुम दोनों का वेट करूंगा यह लो  घड़ी अपने हाथ में पहन लो जैसे ही खूनी का पता चल जाए घड़ी का बटन दबा देना ।वह हमें अलर्ट देगी। बांके और मिस रोजी भेष बदलकर शूज बेचने चल देते हैं।

बांके और मिस रोजी पहले घर में जाते हैं वहां पर सब का साइज नॉर्मल होता है विक्रम के घर जाते हैं। विक्रम के घर में विक्रम की मां होती है। विक्रम की मां उन्हें अंदर बुला लेती हैं रोजी और बांके शूज दिखाने लगते हैं लेकिन विक्रम की मां मना करती हैं बोलती हैं हमारे यहां सिर्फ मैं और मेरा बेटा रहता है हमें शूज नहीं चाहिए। रोजी बोलती है मैडम एक बार देख तो लीजिए विक्रम की मां मना करती है लेकिन रोजी के जिद करने के कारण जूते देखने लगती है। रोजी उन्हें जूते दिखाती है। विक्रम की मां को एक जूता पसंद आ जाता है।

रोजी उन्हें 9 नंबर के जूते दिखाती है विक्रम की मां बोलती है यह काफी छोटा है मेरे बेटे को 11 नंबर का जूता लगता है। बांके बोलता है सॉरी मैडम हमारे पास 11 नंबर के जूते नहीं हैं। तभी रोजी पूछती है वैसे आपका बेटा है कहां विक्रम की मां बताती है कि विक्रम सो रहा है तभी बांके घड़ी की बटन दबा देता है पुलिस की टीम आकर विक्रम को अरेस्ट करके ले जाती है।

नेक्स्ट सीन पुलिस स्टेशन

 

इंस्पेक्टर विक्रम को टॉर्चर करके निशा के हत्या के बारे में पूछताछ करता है। पहले विक्रम मना करता है लेकिन इंस्पेक्टर को टॉर्चर ज्यादा देर तक सह नहीं पाता और मान जाता है कि उसी ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर निशा की हत्या की है।

इंस्पेक्टर विक्रम से निशा की हत्या का कारण पूछता है।

विक्रम बताता है वह निशा से प्यार करता था लेकिन जब वह निशा से इजहार करने के लिए गया तो निशा ने थप्पड़ मार कर उसकी बेज्जती उसके दोस्तों के सामने कर दी थी। इसी का बदला लेने के लिए उसने पहले निशा के साथ रेप किया और फिर उसे मार दिया। विक्रम ने साथ में यह भी बताया कि अगर उसे कोई भी चीज पसंद आ जाती है तो उसे वह हासिल करके ही रहता है अगर वह उसकी ना हो सकी तो वह किसी और की भी नहीं होने देता इसीलिए उसने निशा की हत्या कर दी।

इंस्पेक्टर विक्रम से पूछता है तो उसने फिर रवि को क्यों नहीं मारा?

विक्रम जवाब देता है शालिनी ने रवि को मारने से मना किया था क्योंकि शालिनी रवि से प्यार करती है और निशा से उतना ही ज्यादा चिढ़ती है निशा की हत्या में शालिनी का भी हाथ है शालिनी और विक्रम ने मिलकर प्लानिंग की थी और रवि को गलत  पता बता दिया था जिसके मौके का फायदा उठाकर उसने इस घटना को अंजाम दिया।

इंस्पेक्टर शालिनी का नाम सुनकर चौक जाता है। इंस्पेक्टर को पता था शालिनी बहुत चालू है इसलिए वह अपना जुर्म कबूल नहीं करेगी। इसलिए इंस्पेक्टर शालिनी को पकड़ने के लिए प्लानिंग करता है।

Inspector को पता चलता है कि शालिनी का आना जाना रवि के घर पर है इंस्पेक्टर पता करता है कि क्या कारण है शालिनी रोज-रोज रवि के घर आती जाती है और उसका पीछा करता है।

इंस्पेक्टर को पता चलता है रवि के पापा ने रवि की खराब हालत देखकर रवि की शादी निशा से तय कर दी है। इंस्पेक्टर को मौके का फायदा मिल जाता है और सारी सच्चाई वह रवि के पापा से बता देता है।

रवि के पापा और इंस्पेक्टर मिलकर प्लानिंग करते हैं। एक दिन रवि के पापा शालिनी को घर बुलाते हैं कहते हैं बेटा मैं और राघव शादी के काम से बाहर जा रहे हैं और रवि अकेला घर में रहेगा इसलिए तुम रवि का ध्यान रखने के लिए आज रात उसके साथ मेरे घर पर रुक जाओ। शालिनी मान जाती है।।

इंस्पेक्टर रवि के बेडरुम में एक हिडेन कैमरा छिपा देता है। शालिनी रवि का ध्यान रखने के लिए रवि के घर पहुंच जाती है। रवि के पापा और राघव दोनों बाहर चले जाते हैं। रात का समय रवि का घर

रवि अपने बेडरूम में सो रहा होता है। और शालिनी उसी के पास बैठी होती है। तभी एक गुंडा शालिनी के पास आता है और शालिनी को धमका आता है अगर उसने शालिनी को और पैसे नहीं दिए तो वह पुलिस को सब सच्चाई बता देगा।

शालिनी ओर जाती है और गुंडे को पैसे देने का बोल कर जाने को कहती है। गुंडा वहां से चला जाता है।

शालिनी रवि के सर पर हाथ फेरते हुए बोलती है तुम्हें क्या लगा?

हमारी शादी ऐसे ही हो रही है?

तुमसे शादी करने के लिए मैंने बहुत पापड़ बेले हैं।

अच्छा है तुम्हारी याददाश्त चली गई और तुम्हें कुछ याद नहीं। वह निशा वह मेरे रास्ते का कांटा थी उसे मैंने बड़ी सफाई से हटा दिया।

मरवा दिया उसे मैंने और जोरो से हंसने लगती है। फिर थोड़ा सा गुमसुम होकर बोलती है तुम्हें भी बहुत चोट आई होगी है ना मुझे बिल्कुल अच्छा नहीं लगा था। लेकिन मैं क्या करती मैं बहुत मजबूर हो गई थी तुमने मेरा कहना माना ही नहीं। अगर उस दिन तुमने मेरा कहना मान लिया होता तो निशा को नहीं मारना पड़ता।

खैर जो होता है अच्छे के लिए होता है। इंस्पेक्टर यह सब अपने लैपटॉप पर देख रहा होता है।

अगले दिन इंस्पेक्टर अभी के पापा को सब कुछ बताता है और निशा को अरेस्टे करने के लिए कहता है। रवि के पापा मना करते हैं और कहते हैं कि अगर अरेस्ट करना ही है तो सगाई वाले दिन वाले अरेस्ट करें

इंस्पेक्टर सब कुछ प्लानिंग के हिसाब से करता है। और शालिनी को उसके सगाई वाले दिन रेस्ट कर लेता है।

पुलिस स्टेशन।

 

महिला इंस्पेक्टर शालिनी को जोर का थप्पड़ मारती है और कहती है इतनी गिरी हुई औरत है तू कि किसी को पाने के लिए किसी की हत्या कर दी तूने।

शालिनी को चीख़त हुए निशा मेरे रास्ते का कांटा थी उसने मेरी हर खुशियां छीन ली और अब वह रवि को भी छीन रही थी इसलिए मैंने उसे रास्ते से ही हटा दिया।

शालिनी विक्रम और उसके दोस्तों को जेल में सजा हो जाती है।

Scene Jungle after 1 year.

 

जंगल का वही सीन होता है जहां रवि और निशा कैंप के लिए आए थे वही कैंप होता है और वही कैंप फायर होती है।

रवि और निशा उसी पोज़ में बैठे होते हैं।Written by : Anita Dwivedi

A Mysterious Story

Murder Mystery Of Lovers( Revenge Of Ego) | A Mysterious Story Part-4

 

written by_ Anita Dwivedi

 

Advertisement

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *