Murder mystery of lovers

Murder mystery of lovers (Revenge of Ego) | A mysterious story part -1

This is the story of Murder mystery of lovers (Revenge of Ego)

निशा माय लव जल्दी करो वी आर गेटिंग लेट। रवि हॉर्न बजाते हुए बोलता है। बेबी ओन्ली टू मिनट्स  आई एम कमिंग। निशा अपना बैग संभालते हुए बोलती है।

Advertisement

निशा बैग लेकर बाहर आती है ,रवि निशा को नीचे से लेकर ऊपर तक देखता है। निशा काफी सुंदर लग रही थी

निशा : देखते रहोगे या बोलोगी भी! रवि संभलते हुए सॉरी सॉरी। दोनों कार में बैठ जाते हैं ।

अच्छा रवि तुम्हें रास्ता मालूम तो है ना कैंप का ? रवि स्माइल करते हुए, हां बाबा मालूम है डोंट वरी वी आर ओन टाइम।

अगर टाइम से नहीं पहुंचे ना तो शालिनी मार डालेगी मुझे ,निशा ने हंसते हुए कहा। इतने में रवि का फोन बजता है।रवि कार को साइड में लेते हुए फोन रिसीव करता है, हेलो , हां हां राघव!

कमिंग या या  वि विल कैच यू  ओंन टाइम।Yes she is also with me. अरे फोन रखोगे तो ना पहुंचूंगा मैं। ओके बाय।

निशा: किसका फोन था?

राघव का कॉल था। रवि ने जवाब दिया ,उसे टेंशन हो रही है।

टेंशन? किस बात की टेंशन रवि ?

थोड़ा परेशान होते हुए निशा पूछती है।

रवि थोड़ा सा घबराते हुए बोलता है, तुम जो मेरे साथ हो इसी बात की टेंशन और जोरो से हंसने लगता है।

निशा गुस्से से रवि आई विल किल यू।

रवि और कितनी देर लगेगी पहुंचने में? निशा पूछती है।

बस 10 मिनट और रवि जवाब देकर रेडियो चला देता है। गाना बजता रहता है और दोनों शांत हो जाते हैं।

रवि ड्राइव करता रहता है।

रवि ड्राइव करते-करते रोंग टर्न ले लेता है ।दरअसल रवि रास्ता भूल जाता है और कन्फ्यूजन में रॉन्ग टर्न ले लेता है।

ड्राइव करते-करते उसे 30 मिनट से ज्यादा हो जाते हैं। लेकिन वह अपने फ्रेंड्स के पास नहीं पहुंच पाता |

निशा : आधे घंटे से ज्यादा हो गया है अभी तक हम पहुंचे नहीं हैं ?
रवि     : सॉरी शायद मैं रास्ता भूल गया हूं बट डोंट वरी हम पहुंच जाएंगे।

निशा let’s see.

रवि ड्राइव करते हुए एक सुनसान जगह में पहुंच जाता है और आगे कोई रास्ता भी नहीं था और काफी अंधेरा भी हो गया था रवि टाइम देखता है तो रात के 10:30 हो चुके होते हैं।

निशा भी सो गई होती है।

रवि फोन निकालता है कॉल करने के लिए लेकिन नेटवर्क नहीं होता। Damn it!
रवि कार के फ्रंट व्हील पर किक करते हुए। किक की आवाज सुनकर निषा जाग जाती है।
निशा : यार अब तक में तो सभी फ्रेंड्स कैंप में पहुंच गए होंगे और एंजॉय कर रहे होंगे।

रवि निशा को देखते हुए। हे भगवान! हम खो गए हैं निशा और तुम्हें कैम्प की पड़ी है।

निशा स्माइल करते हुए, कोई बात नहीं मुझे कोई डर नहीं है , तुम मेरे साथ हो ना यही काफी है और रवि को हग कर लेती है।

रवि भी निशा को गले लगा लेता है।

Scene 2

Murder mystery of lovers
रवि और निशा मिलकर अपना एक छोटा सा कैंप लगाते हैं। और कैम्प के पास आग जल रही होती है।

रवि निशा को अपने बाहों में लिए बैठा होता है। दोनों क्वालिटी टाइम स्पेंड कर रहे होते हैं। एकदम से निशा डर जाती है।
रवि: क्या हुआ निशा?

निशा: रवि रवि शायद यहां कोई है!
मुझे लगा उस पेड़ के पीछे से हमें कोई देख रहा है।
रवि उठकर जाता है देखने के लिए कि कौन है। फोन की फ्लैश लाइट  जलाता है, और कौन है वहां कहते हुए पेड़ के आगे तक जाता है और उसे वहां कोई नहीं मिलता।

रवि वापस कैंप फायर की तरफ आता है। लेकिन उसके होश उड़ जाते हैं। निशा वहां से गायब होती है। रवि घबरा जाता है और पागलों की तरह निशा को ढूंढने लगता है।

क्या रवि को निशा मिली या फिर कोई बड़ा हादसा निशा का इंतज़ार कर रहा था …………………………………………….

Stay connected with us and do not forget to Subscribe ( subscribe it for next part, for latest update on this story).

Please comment below so that we publish next part of this story Murder mystery of lovers (Revenge of Ego) as early as possible.

Advertisement

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *