हिन्दी बोलने में शर्म क्यों

हिन्दी बोलने में शर्म क्यों? Hindi Humari Apni Bhasha

आज मै बैठे बैठे सोच रही थी कि क्यो  लोग हिंदी भाषा  जो की हमारी  राष्ट्रीय भाषा है को इतनी हीन भावना से देखने लगे हैं, आज कहीं भी जाओ लोग अंग्रेज़ी भाषा को ज्यादामहत्व  देने लगे हैं।

Advertisement

नौकरी  के लिए  अगर आप को साक्षात्कार देना है  तो आप  को  अंग्रेज़ी  आना जरुरी  है नही तो आप या तो  गवार समझे जायेंगे  या फिर आपको  नौकरी  नही दी जायेगी, विडंबना  तो ये है  अंग्रेज़ी बोलने वाला व्यक्ति  भले ही उसे  कुछ भी नहीं आता हो नौकरी बड़ी आसानी से पा लेगा , लोग उसे  सम्मान  की  नजर  से देखेंगे।
आज के  अधिकतर  अभिभावक  अपने बच्चों को अंग्रेज़ी माध्यम में पढ़ाना ज्यादा पसंद करते हैं। बडे़-बडे़ विद्यालयो में  बच्चों को  हिंदी या क्षेत्रीय भाषा  बोलने पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है। नतीजा ये होता  बच्चा अपनी  बात, अपनी राय या विचार  व्यक्त नही कर पाता। और  शायद  ऐसा करके हम कहीं न कहीं अपने  बच्चो के  मानसिक  विकास में बाधा डाल रहें हैं । आप  ही देख लीजिए आज के अधिकतर युवा  न तो  ढंग  से  हिंदी बोल  पाते हैं और ना ही अंग्रेज़ी। पता नही हम क्यों अंग्रेज़ी के इतना पीछे पड़े हैं। आप चीन में  चले जाइये या  जापान  में  वहाँ के  लोग अपनी मातृभाषा का प्रयोग करके ज्यादा सम्मानित महसूस करते हैं फिर हम क्यों नहीं। कहा जाता है  अगर किसी देश को नष्ट करना है तो  उसकी भाषा और संस्कृति को नष्ट कर  दीजिए , और  हम स्वयं यह काम कर रहें हैं। हमे गर्व होना चाहिए अपनी राष्ट्रीय भाषा पर। आज  विश्व भर में  हमारी राष्ट्रीय भाषा सीख रहें हैं , हमारी  संस्कृति अपना रहें हैं तो हम भारतीय क्यों पीछे रहें। मुझे गर्व है कि मैं भारतीय हूँ और मुझे हिंदी भाषा आती है, हिंदी बोलने पर मुझे गर्व महसूस होता है।
जय हिंद जय भारत ।

Dear friends you can subscribe my YouTube channel also for technical tips and tricks.

A-tech

Advertisement

3 thoughts on “हिन्दी बोलने में शर्म क्यों? Hindi Humari Apni Bhasha”

  1. Utkarsh Tripathi

    हमारे भारत वर्ष पर इस पश्चिमी सभ्यता द्वारा जो आघात किया गया है, उससे हमसब अपना मूल भूलते जा रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *